कवि हूँ…

आभासों और भावनाओं से भरा हूँ,
कवि हूँ,
संभावनाओं से भरा हूँ…

दुख और व्यथाओं से भरा हूँ,
कवि हूँ,
अत्याचारों से भरा हूँ…

वेदना और अवहेलनाओं से भरा हूँ,
कवि हूँ,
संवेदनाओं से भरा हूँ…

हँसी और हास्य से भरा हूँ,
कवि हूँ,
मुस्कानों से भरा हूँ…

शब्दों और परिभाषाओं से भरा हूँ,
कवि हूँ,
मुक्त विचारों से भरा हूँ…

आँसू और वीरहाघातों से भरा हूँ,
कवि हूँ,
गहरे घावों से भरा हूँ…

कला और कल्पनाओं से भरा हूँ,
कवि हूँ,
अभावों से भरा हूँ…

प्रीति और अपनत्व के इंकलाब से भरा हूँ,
कवि हूँ,
नफ़रतों के सरोकार से भरा हूँ…

उपलब्धता और सहजता के स्वभाव से भरा हूँ,
कवि हूँ,
कविताओं के आसमान से भरा हूँ !!

#रshmi

15803734_392301731112094_7171777790050566144_n
एक ख़्याल को क़ुरेदते रहे, उसकी बदखती तक.. हलक़ में अटके एहसास ख़ुद-ब-ख़ुद कविता हो गए !! #रshmi
Advertisements

12 thoughts on “कवि हूँ…

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s