ये वो नहीं, ये ज़िन्दगी कुछ और है…

ये वो शमा नहीं जो परवानों को जलाया करती है,
ये वो शाम है
जो आफ़ताब को जला जाया करती है…

ये वो चाँदनी नहीं जो महताब को सताया करती है,
ये वो स्याही है
जो सितारों को रंग जाया करती है…

ये वो रूख़सार नहीं जो मुस्कान को किनारे दिया करते हैं,
ये वो ललाई है
जो नैनों को रूलाया करती है…

ये वो आसमान नहीं जो बादलों की सुरमई चादर में सोया करता है,
ये वो ज़मीं है
जो मिट्टी में हीरा उपजाने की वज़ा करती है…

ये वो आबशार नहीं जो चट्टानों को भिगोया करते हैं,
ये वो चिलमन है
जो भीगे पत्थरों को ढ़का करती है..

ये वो ज़िंदगी नहीं जो सब को मिल जाया करती है,
ये वो ललक है
जो ज़िदगी से मिला दिया करती है!!

#रshmi

 

15725319_1524048134277191_276144489_o
My Click!

 

Advertisements

7 Replies to “ये वो नहीं, ये ज़िन्दगी कुछ और है…”

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s