कवि …

वो सृजन कहाँ से आया,
जिसने कवि बनाया?
कविताएँ तो बन गईं स्वतः ही,
परन्तु कवित्व किसने जाया?

शब्दों की माला पिरोई,
रचनाओं को किसने सजाया?
मन के भावों को भाषा दी,
कल्पनाओं का ताना बाना बनाया..

वो सृजन कहाँ से आया,
जिसने कवि बनाया?

शायद वह वैरागी था कोई,
जिसने फ़कीरी को प्रेम बनाया…
परिभाषा दी गीत-राग को,
जोगियों को मझधार तराया..

शायद संत ही कवि था कोई,
निरस आवाज़ों पर जिसने कविता का मूल उपजाया..
गूँज वहाँ से आई पहली,
जिसने संगीत का उदघोष कराया..
क्राँति का स्वरूप था कोई,
जिसने परिवर्तन का शंखनाद कराया…

वो सृजन कहाँ से आया,
जिसने कवि बनाया?

शायद खुद से हारा हुआ था कोई पथिक,
जिसने नव-निर्माण का बीज उगाया..
शायद किसी नदी का मुहाना था कोई,
जिसने रेत पर जल का रेला लगाया…

वो सृजन कहाँ से आया,
जिसने कवि बनाया?

#रshmi20031063_10207761604396882_1369971797_n

Advertisements

6 thoughts on “कवि …

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s